Sunday, 6 March 2022

कुछ पंक्तियाँ



~ 1 ~

 उस मोड़ का वो ढ़लान 

जहाँ मेरा रास्ता अलग हो जाता था

उसकी गवाह वो

गुलमोहर और नीम की 

बंटी हुई छांव



~2~

जीवन की जंग में 

रोज़ मैं अपने 

हथियारों को तराशती हूँ 

पर दुनियाँ से 

जब रूबरू होती हूँ 

तो पाती हूँ 

अभी और धार बाकि है



~ 3 ~

कर्मों की कश्ती 

 जाने किस दरख्त 

को काट कर बनाई जाती है 

एक खासियत बड़ी अच्छी है 

इसमें, कि एक दिन 

हमारे पास वापस लौट कर 

ज़रूर आती है





~ 4 ~

बहुत सी यादें थी 

कुछ सुलझी 

कुछ उल्झी 

उनमें से चुनना मुश्किल था 

फिर मैंने एक फैसला लिया 

उन्हें वक्त पे छोड़ दिया 

और फिर जिरह चलती रही 

तारीखें बदलती रही



~ 5 ~

उसने सर्द अल्फ़ाज़ों 

से कहा 

ज़िन्दगी भी रात की तरह है 

चांदनी सी चमक बहुत है 

चारो तरफ 

पर किस्मत का हर सितारा 

टूटा हुआ है



~ 6 ~

इस शहर की सर्द हवाएं 

मुझसे होकर गुज़री 

कुछ तुझसे 

हवाओं की गुफ्तगू 

ने हौले से फ़रमाया 

हम एक ही शहर में हैं



~ 7 ~

एक उलझी हुई 

उदास होती शाम 

कुछ खाली प्याले 

कुछ आधे भरे हुए 

कांच कुछ टूटे 

बिखरे हुए 

पर इन सबसे 

जुड़ी हुई 

एक कहानी 

शायद सुनी किसी ने नहीं 

पर अनकही 

भी तो रही नहीं


19 comments:

  1. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार (07 मार्च 2022 ) को 'गांव भागते शहर चुरा कर' (चर्चा अंक 4362) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है। 12:01 AM के बाद आपकी प्रस्तुति ब्लॉग 'चर्चामंच' पर उपलब्ध होगी।

    चर्चामंच पर आपकी रचना का लिंक विस्तारिक पाठक वर्ग तक पहुँचाने के उद्देश्य से सम्मिलित किया गया है ताकि साहित्य रसिक पाठकों को अनेक विकल्प मिल सकें तथा साहित्य-सृजन के विभिन्न आयामों से वे सूचित हो सकें।

    यदि हमारे द्वारा किए गए इस प्रयास से आपको कोई आपत्ति है तो कृपया संबंधित प्रस्तुति के अंक में अपनी टिप्पणी के ज़रिये या हमारे ब्लॉग पर प्रदर्शित संपर्क फ़ॉर्म के माध्यम से हमें सूचित कीजिएगा ताकि आपकी रचना का लिंक प्रस्तुति से विलोपित किया जा सके।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आपका आदरणीय मेरी रचना को चर्चा अंक में स्थान देने पर.

      Delete
  2. बहुत बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहेदिल से शुक्रिया आपका आदरणीय.

      Delete
  3. बहुत सुन्दर सृजन ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आपका आदरणीया

      Delete
  4. शानदार लघु रचनाएं! सभी क्षणिकाएं सार्थक भाव समेटे सुंदर अभिनव।
    सस्नेह।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आपका आदरणीय

      Delete
  5. लाजवाब सृजन

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आपका आदरणीय,

      Delete
  6. Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आपका आदरणीया

      Delete
  7. सुन्दर सृजन

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आपका आदरणीय

      Delete
  8. बेहतरीन दर्शन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आपका आदरणीय,

      Delete
  9. वाह बेहतरीन गहराई से निकली मन को गहरे तक छूती प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आपका आदरणीय संजय जी

      Delete
  10. मैंने इनमें से प्रत्येक रचना को बहुत ध्यान से पढ़ा भी, गुना भी। अंततः यही पाया कि मेरे लिए इन्हें अनुभूत कर लेना ही पर्याप्त है। और जो बात हृदय के तल पर जाकर स्थिर हो जाए, उस पर भला क्या टिप्पणी की जा सकती है?

    ReplyDelete