Tuesday, 17 May 2022

माँ तुम यहीं हो

पवित्र नदीजिसे हम 
माँ नर्मदा कहते हैं
अक्सर जाती हूँ 
और सीढ़ी पर बैठ कर 
घंटो ख़ामोशी से बहती 
नदी को देखती रहती हूँ
मैं कई दिनोंमहीनोंसालों से 
कुछ तलाश रही थी 
घाट की सीढियाँ उतरती हैं 
गहरे पानी में 
आखरी सीढ़ी से टकराते पानी की 
आवाज़ मुझे खींच रही थी 
उस आवाज़ का अनुसरण कर 
वहां जाती हूँ 


उस आखरी सीढ़ी पर 
बैठ कर टकराते पानी की 
आवाज़ सुनती हूँ समझती हूँ 
मेरी तलाश को एक 
मुकाम हासिल होता है 
उस टकराते पानी को 
ध्यान से सुनती हूँ 
उस आवाज़ में मुझे 
अहसास होता है की 
माँ तुम यहीं हो 
माँ नर्मदा ने 
मुझे मेरी माँ से मिला दिया 
अब माँ के जाने के बाद 
जब भी मन करता है 
उनसे मिलने का 
आखिरी सीढ़ी के टकराते पानी से 
बातें कर लेती हूँ 
एक माँ ने मुझे मेरी माँ लौटा दी

37 comments:

  1. वाह !!! मन की भावनाएँ कैसे और कहाँ पहुँच जाती हैं। नर्मदा नदी में माँ की छवि को महसूस करना , बहुत संवेदनशील अभिव्यक्ति ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया तहेदिल से शुक्रिया आपका.

      Delete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 19.5.22 को चर्चा मंच पर चर्चा - 4435 में दिया जाएगा| चर्चा मंच पर आपकी उपस्थिति चर्चाकारों का हौसला बढ़ाएगी
    धन्यवाद
    दिलबाग

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय सर तहेदिल से शुक्रिया आपका मेरी रचना को चर्चा मंच में स्थान देने पर.

      Delete
  3. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" पर गुरुवार 19 मई 2022 को लिंक की जाएगी ....

    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप सादर आमंत्रित हैं, ज़रूर आइएगा... धन्यवाद!

    !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय सर तहेदिल से शुक्रिया आपका मेरी रचना को पांच लिंकों का आनंद में स्थान देने पर.

      Delete
  4. Replies
    1. आदरणीय तहेदिल से शुक्रिया आपका.

      Delete
  5. आखिरी सीढ़ी के टकराते पानी से
    बातें कर लेती हूँ
    एक माँ ने मुझे मेरी माँ लौटा दी.... अत्यंत मार्मिक और रूहानी अहसास!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय तहेदिल से शुक्रिया आपका.

      Delete
  6. दिल को छूती सुंदर रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया तहेदिल से शुक्रिया आपका.

      Delete
  7. माँ का सुखद अहसास माँ ही कराती हैं
    मर्मस्पर्शी प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया तहेदिल से शुक्रिया आपका.

      Delete
  8. मन को छूती बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय तहेदिल से शुक्रिया आपका.

      Delete
  9. Replies
    1. आदरणीया तहेदिल से शुक्रिया आपका.

      Delete
  10. बहुत खूबसूरत भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया तहेदिल से शुक्रिया आपका.

      Delete
  11. हृदय स्पर्शी सृजन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया तहेदिल से शुक्रिया आपका.

      Delete
  12. हृदय स्पर्शी रचना, गहन अहसास समेटे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया तहेदिल से शुक्रिया आपका

      Delete
  13. बहुत ही सुंदर... खूबसूरत 💕

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहेदिल से शुक्रिया आपका,

      Delete
  14. भावनाओं का शब्दों से गहरा रिश्ता होता है
    एक - एक शब्द भावनाओं से ओतपोत ।

    सुन्दर अति सुन्दर !

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहेदिल से शुक्रिया आपका आदरणीय ।

      Delete
  15. बहुत अच्छी कविता. हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  16. मन को छूती सुंदर रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहेदिल से शुक्रिया आपका आदरणीया ।

      Delete
  17. कितना कुछ है इन लफ़्ज़ों में …खूबसूरत

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहेदिल से शुक्रिया आपका आदरणीय ।

      Delete
  18. हृदय को स्पर्श करती बेहद प्यारी रचना 🙏

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहेदिल से शुक्रिया आपका आदरणीया

      Delete
  19. वाह , नर्मदा के साथ माँ का साम्य ..नदी माँ जैसी होती है और माँ नदी जैसी ..बहुत सुन्दर कविता मधूलिका जी . आपने कहानी पढ़ी ,अच्छी लगी ..ब्लाग पर आने का बहुत धन्यवाद .क्योंकि इसी लिये मैं आपकी सुनदर रचना पढ़ सकी .

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहेदिल से शुक्रिया आपका आदरणीया

      Delete