Thursday, 14 May 2015

वृद्धावस्था की तैयारी


वृद्धावस्था की तैयारी 
कर्मों का लेखा जोखा
शारीर नहीं दे कहीं धोखा
सहारे वाले हाथ नहीं हैं
अब बच्चों व रिश्तेदारों की बारात नहीं है
अकेली सुबह है
खाली और काली संध्या है
सन्नाटे बन गए कान के बाले
लटक-लटक कर शोर करते हैं
आराम कुर्सी है हिलने वाली
कुर्सी स्थिर है हिल रहा शारीर
कितनी लाचारी और बेबसी 
आँखें दूसरों से
आस और अपनापन मांगती सी
टूटती उम्मीद बुझती लौ
बिखरते सपने टूटे कांच से
एक - एक नश्तर चुभता दिल पे
प्राण रखे हैं बीच में दो सिल के
धीरे - धीरे सब कुछ घुटता जाता है
क्या खोया क्या पाया
कुछ भी समझ न आया
भारी मन, हाथ खाली है
चलो अब वृद्धावस्था की तैयारी है
शांत वन में सहारे वाली लकड़ी की ठक - ठक
लड़खड़ाते कदमों की धक - धक
बिन आंसू रोती आँखें
शून्य में खो जाती हैं
बचपन से जवानी, जवानी से बुढ़ापा
शान्त मन रहता, अब नहीं खोता आपा
जीवन की संध्या में कल के सूरज की आस नहीं है 
अब तो बस वृद्धावस्था की तैयारी |

The Beauty of Old Age | Flickr - Photo Sharing! : taken from - https://www.flickr.com/photos/vinothchandar/8530944828/Author: Vinoth Chandar https://creativecommons.org/licenses/by/2.0/

8 comments:

  1. वाह मधुलिका जी एक बनाया देखने को मिला ब्लॉग बिलकुल मेरी तरह ही है.....यादों का सिलसिला तो कभी ख़त्म होता ही नहीं ..यूँ ही चलता रहे तो ही ठीक है ....कुछ अची और कुछ बुरी यादें का समावेश ह ज़िन्दगी है !!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. इत्तफाकन बलॉग की थीम एक समान हो गई । गूगल की रेडीमेड थीम जो है ।
      कमेन्ट करने के लिए धन्यवाद ।

      Delete
  2. सुंदर अभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आपका।

      Delete
  3. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति .....

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत शुक्रिया नीरज जी।

      Delete
  4. वृद्ध अवस्था का जैसे केनवास सामने खड़ा कर दिया आपने ...
    बहुत संवेदनशील और दिल को छूने वाली रचना है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रोत्साहन इंसान को और लिखने की प्रेरणा देता है। बहुत आभार दिगम्बर जी।

      Delete