Tuesday, 14 July 2015

कीमती मोती


आज मैने आँसू की एक बूंद में 
बहुत सारे अक्श हैं देखे
वो तेरी मेरी उसकी आँख का पानी
सबकी अलग है कहानी
बचपन के मासूम मोती 
जब आँखों में भर आएँ
माँ कुछ देर भी गर
आँखों से ओझल हो जाए
किशोरों की आँखें
अचानक से कब भर आएँ
व्याकुल मन का पंछी
पिंजरा तोड़ने को झटपटाए
युवा मन और ख़ामोश सिसकियाँ
एकांत में घंटों भिगोते सिरहाने
नाकामि, विरह, त्याग
अनगिनत कहानियाँ 
एक प्रोढ़ आँखों के आँसू
बेटा चला गया विदेश
बेटी को बिदा किया परदेस
बड़े दिनों के बाद उनकी आती है जब चिठ्ठी
रुला जाते हैं उनके न आने के कारण
एक वृद्ध की आँख़ों के आँसू
सिर्फ आँसू ही आँसू
फर्श पर बेटे की मौत बिख़रि पड़ी
उसकी किरचें आँखों में है गढ़ी
औलाद का गम, जिसकी थी जीने की उम्र
कहीं जीवनसाथी अलविदा कह गया
अकेलेपन की सज़ा दे गया
इस उम्र का आँसू
जो सूखता भी नहीं
रुकता भी नहीं
और बहता भी नहीं 

tears..... | Flickr - Photo Sharing! : taken from - https://www.flickr.com/photos/japokskee/4326977973/Author: Jhong Dizon https://creativecommons.org/licenses/by/2.0/

8 comments:

  1. कौन रोता है किसी और की ख़ातिर ऐ दोस्त
    सबको अपनी ही किसी बात पे रोना आया !

    गम और आँसू के बिना जिंदगी में ख़ुशी के भी तो की मायने नहीं है! हर एक को छूती हुयी मार्मिक अभ्व्यक्ति लिए सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आपका कृष्णा जी मेरी रचना पढने और सराहने के लिए |

      Delete
  2. इस उम्र का आँसू
    जो सूखता भी नही
    रूकता भी नहीं
    और बहता भी नही।------इस उम्र तक आते-आते शायद आँसूओं की प्रकृति भी बदल जाती है।खूबसूरत कविता।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आपका राजेश कुमार जी मेरी रचना पढने और सराहने के लिए

      Delete
  3. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आपका हिमकर जी मेरी रचना पढने और सराहने के लिए.

      Delete
  4. बहुत ही सुन्दर ! आभार एवं शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  5. बहुत बहुत शुक्रिया आपका संजय जी

    ReplyDelete