Friday, 24 July 2015

तुम्हारा प्यारा सा नाम


तुम आती हो नए घर संसार में 
सपने हजारों हैं अपनों के प्यार में 
सुबह मंदिर की प्रार्थना में 
औरों का दुख दर्द
मांगती अपने हिस्से में 
सबको खिलाने के बाद 
आधे पेट खाने से ही हो जाती तृप्त
तुम्हारा पसीना है टपकता 
सारा आशियाना है चमकता
रसोइ का धुअाँ बहुत गहरा
तुम्हारा अस्तित्व नहीं कुछ कह रहा
घर के अंदर से बाहर तक 
उसी के कंधे पर है टिकी
घर की एक -एक मंयार
तुम खो गई उस घर में
पर जब घर के द्वार पर दस्तक होती है  
हर कोइ पूछता है 
दरवाज़े पर लगी नेम-प्लेट वाले शख्स को 
तुम्हारा नाम उस घर में कहीं गुम गया है
तुम्हें तो रिश्ते आपना नाम दे चुके हैं
पत्नी, बहू, माँ और भाभी का
कब वक्त आएगा कि लिखा हो 
घर के बाहर तुम्हारी पहचान के साथ
तुम्हारा प्यारा सा नाम

be the change .. | Flickr - Photo Sharing! : taken from - https://www.flickr.com/photos/nevilzaveri/8049320227/Author: nevil zaveri https://creativecommons.org/licenses/by/2.0/

12 comments:

  1. मधुलिका जी बेशक बहुत ही मर्म लिए भाव समझें तो बहुत न समझें तो कुछ भी नहीं....किस किस के बारे में सोचूँ...आवश्य अपना स्थान पाने को आतुर एक अतुल्य 'नारी' !!

    दाद !!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया हर्ष जी मेरी रचना को पढ़ने और सराहने के लिए.

      Delete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (26-06-2015) को "व्यापम और डीमेट घोटाले का डरावना सच" {चर्चा अंक-2048} पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत शुक्रिया आपका शास्त्री जी मेरी रचना को चर्चा मंच मे शामिल करने के लिए.

    ReplyDelete
  4. निस्वार्थ ही करती रहती है नारी सब कुछ ... पर उसको न्याय मोइना जरूरी है ... उसको पहचान मिलना जरूरी है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आप का दिगम्बर जी मेरी रचना को पढ़ने और सराहने का ।

      Delete
  5. सुंदर भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आपका हिमकर जी..

      Delete
  6. Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया मदन मोहन जी..

      Delete
  7. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. बहुत बहुत शुक्रिया आप का ओंकार जी ।

    ReplyDelete