Monday, 8 June 2015

अधूरी कहानी


सब रंग भर दिए पर तस्वीर अभी अधूरी है 
बातें बहुत कही और सुनी हमनें 
पर मुलाकात अब भी अधूरी है
मंजिल तक जाना मजबूरी थी
पर सफ़र अब भी अधूरा है
अधूरी तस्वीर पूरी करदो
रेत पर बनी है तस्वीर
इसे पानी के रंग से भर दो
मुलाकात अब पूरी कर दो
कहानी जो अधूरी थी
उसे मुझे सुनने वाले
शब्दों से भर दो 
उस मजिल तक
तुम साथ जाना चाहते थे
अब आ भी जाओ
तुम्हारे इंतज़ार में
सफर के बीच में
जहाँ रुकी थी मैं
उस खाली स्थान को भर दो 
इस आत्मा को
शरीर के बंधन से मुक्त कर दो
रेत की तस्वीर थी
पानी का रगं था
लहरें उसे अपने साथ वापिस ले गई 
ढूंढ़ती रही आँखें पुराने निशान
तस्वीर, मुलाकात, मंज़िल
कुछ नहीं था दूर तक बस एक खामोशी 
लहरों की हल चल और पक्षियों का कलरव |

Blue Girl in Red Dress [postcard] | Flickr - Photo Sharing! : taken from - https://www.flickr.com/photos/spaceshoe/4830144928/in/album-72157624177551876/Author: SpaceShoe [Learning to live with the crisis] https://creativecommons.org/licenses/by/2.0/

4 comments:

  1. सच मानो तो अंत यही है ... कुछ नहीं रह जाता रेत के निशाँ ज्यादा नहीं ठहर पाते ... पर जिंदगी की तस्वीर पे सब रंग भरे हों तो आसान हो जाता है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आपका दिगम्बर जी

      Delete
  2. सुंदर भावाभिव्यक्ति....कुछ भी शेष नही बचता, आहिस्ता-आहिस्ता रेत में मिल जाती हैं रेत पर बनी निशानियाँ साथ में सारी उम्मीदें भी...

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत शुक्रिया आपका हिमकर जी

    ReplyDelete