Friday, 9 June 2017

ये खामोशियाँ


ये खामोशियाँ और 
इनके अन्दर छिपी हुई 
सिसकियाँ , हिचकियाँ 
बहुत धीमे धीमे घुटती आवाज़ 
कानों में उड़ेल जाती हैं 
ढेर सारा गर्म लावा 
वो स्लो पॉयजन 
फैलता जाता है 
दिमाग की नसों में 
और वहाँ जा कर 
कोलाहल बन जाता है 
मैं भागती रहती हूँ 
शान्ति की तलाश में 
कभी कभी छुपने की 
जगह तलाशती हूँ
जहाँ कभी तुम होते थे 
तुम्हारे पीछे छुपने पर 
वो मसाले वाले हाथ 
तुम्हारी उजली शर्ट का 
मेरे मसाले वाले हाथों से 
ख़राब होने का मलाल 
तुम्हारे चेहरे पर
साफ़ नज़र आता था 
तुम्हारे पीछे छुपने पर भी 
दोनों बच्चे मुझे ढूढ़ कर 
जोर से खिलखिला देते थे 
वो छुपने का खेल कितना
मासूम हुआ करता था 
अब तो अपने आप से
अपने आप को छुपा लूं तो सही 
ये आँखों की नमी 
अब बोलती नहीं 
ये खामोशियाँ और 
इनके अन्दर छुपी हुई 
सिसकियाँ , हिचकियाँ 

18 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (11-06-2017) को
    "रेत में मूरत गढ़ेगी कब तलक" (चर्चा अंक-2643)
    पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका शास्त्री जी मेरी रचना को चर्चा मंच मे स्थान देने पर ।

      Delete
  2. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका ओकार जी ।

      Delete
  3. आपकी लिखी रचना  "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 14 जून 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. तहेदिल से आभार आपका मेरी रचना को पांच लिंकों का आनंद मे शामिल करने पर ।

    ReplyDelete
  5. ज़िंदगी के खूबसूरत एहसास हमेशा पीछा करते हैं । तसल्ली भी देते है । खूबसूरत रचना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका मेरी ब्लॉग पर आने का ।

      Delete
  6. ज़िंदगी के खूबसूरत एहसास हमेशा पीछा करते हैं । तसल्ली भी देते है । खूबसूरत रचना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहे दिल आभार आप का राजेश कुमार जी .मेरी ब्लॉग पर आने का ।

      Delete
  7. बहुत ही सुन्दर... मार्मिक...
    लाजवाब प्रस्तुति...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आप का मेरी ब्लॉग पर आने का ।

      Delete
  8. जब किसी के पीछे छुपने की जगह खो जाती है, तब ही खुद को खुद से छुपाने की जरूरत पड़ती है...
    मर्मस्पर्शी रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आप का मेरी ब्लॉग पर आने का ।

      Delete
  9. अतिमार्मिक रचना सुन्दर ! आभार "एकलव्य"

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका मेरी ब्लॉग पर आने का

      Delete
  10. खामोशी भी कई बार पुराने एहसास लौटा लाती है ... कुछ पल के लिए ही सही ...कई बार टीस ही रह जाती है ...

    ReplyDelete
  11. आप की सराहना के बाद में अपनी रचना को एक नए मुकाम पर हासिल होते हुए पाती हूँ ।शुक्रिया आप का सर ।

    ReplyDelete