Tuesday, 10 March 2020

वो तलाश


वर्षो बाद बरसात की रात
अजब इत्तेफाक की बात
रात के पहर दस्तक
दरवाज़े पर था कोई रहवर
जैफ ने पनाह मांगी
मेरे घर के चरागों में
रौशनी बहुत कम थी
परफ्यूम की खुशबु जानी पहचानी थी
पर उसकी अवारगी और कुछ खोजती निगाहें.. 
मेज़ पर रखी काॅफी को
जब उसने झुक कर उठाया
रेनकोट के ऊपर वाले जेब में
मेरी तस्वीर जो बहुत पुरानी थी
जिस मोड़ को मैं छोड़ आई थी
बंद किए किस्से में वो दस्तक
नया हिस्सा जोड़ गई
वो कुछ नहीं बोला
और बारिश थमने के बाद
अलविदा कह कर चला गया
फिर से अजनबी बनने
पता नहीं अब बारिश कब होगी
काश मैं चुपके से 
जेब की तस्वीर बदल पाती
उसकी वो तलाश मुकम्मल हो जाती..

22 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 11 मार्च 2020 को साझा की गई है...... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. मैडम आप का तहेदिल से शुक्रिया मेरी रचना को सांध्य दैनिक मुखरित मौन में स्थान देने के लिए। 💐

      Delete
  2. Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सर

      Delete
  3. Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सर

      Delete
  4. वाह,क्या बात

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सर

      Delete
  5. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर( 'लोकतंत्र संवाद' मंच साहित्यिक पुस्तक-पुरस्कार योजना भाग-१ हेतु नामित की गयी है। )

    12 मार्च २०२० को साप्ताहिक अंक में लिंक की गई है। आमंत्रण में आपको 'लोकतंत्र' संवाद मंच की ओर से शुभकामनाएं और टिप्पणी दोनों समाहित हैं। अतः आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/


    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।



    आवश्यक सूचना : रचनाएं लिंक करने का उद्देश्य रचनाकार की मौलिकता का हनन करना कदापि नहीं हैं बल्कि उसके ब्लॉग तक साहित्य प्रेमियों को निर्बाध पहुँचाना है ताकि उक्त लेखक और उसकी रचनाधर्मिता से पाठक स्वयं परिचित हो सके, यही हमारा प्रयास है। यह कोई व्यवसायिक कार्य नहीं है बल्कि साहित्य के प्रति हमारा समर्पण है। सादर 'एकलव्य'





    ReplyDelete
    Replies
    1. तहेदिल से शुक्रिया आप का मेरी रचना को लोकतंत्र संवाद में स्थान देने के लिए। 💐

      Delete
  6. भावों से भरी सुंदर रचना मधुलिका जी |सस्नेह शुभकामनाएं और बधाई |

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया

      Delete
  7. बहुत ही सुन्दर...
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया

      Delete
    2. बहुत बहुत शुक्रिया

      Delete
  8. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  9. बहुत बहुत शुक्रिया सर

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुंदर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सर ।

      Delete
  11. बहुत खूब ...
    कई दिनों बाद आपको ब्लॉग पर देखा ... अच्छा लगा ...
    हमेशा की तरह बेचैन सी रचना ...

    ReplyDelete