Sunday, 28 January 2018

अजनबी अजनबी


यह जीवन जब 
भीड़ में गुम हो जाने के बाद 
धीरे - धीरे तन्हा होता है 
धीरे - धीरे पंखुड़ियों से 
सूख कर बिखर जाते हैं यह रिश्ते 
प्यार स्नेह और अपनेपन की 
टूट जाती है माला 
धीरे - धीरे हर मन का 
गिरता जाता है 
धीरे - धीरे कम हो जाता है 
अपनों की आवाज़ों का कोलाहल 
अल्फ़ाज़ बहुत हैं दिल में पर 
धीरे - धीरे शब्दों का 
अजनबी हो जाना
धीरे - धीरे ख़त्म होती 
अहसासों की धड़कन 
धीरे - धीरे कमज़ोर होते धागे 
अपने से अपनों तक के 
जिनमें  पड़  जाती है 
कई गाठें 
पहले इंसान 
अजनबी सी भीड़ में 
शामिल होता है 
भीड़ में खोकर अपना सब कुछ 
वापस भीड़ से अलग 
अजनबी बन जाता है 
हर एक शख़्स एक दुसरे से है 
अजनबी अजनबी . . . 

35 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, गणतंत्र दिवस समारोह का समापन - 'बीटिंग द रिट्रीट'“ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत शुक्रिया इस कविता को पोस्ट में शामिल करने के लिए | आभार |

      Delete
  2. मधूलिका जी अपनी इस छोटी सी कविता में भीड़ वाले सन्नाटे की बात करती हैं. कवि नीरज भी फ़िल्म 'प्रेम पुजारी' वाले गीत -'बादल, बिजली, चन्दन, पानी जैसा अपना प्यार'में खुद को 'भीड़ के बीच अकेला' पाते हैं. कविता अच्छी है किन्तु इसमें जो विचार है, वह मौलिक नहीं है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस छोटी सी कविता को पढ़ने के लिए शुक्रिया | आश्चर्यजनक बात है की 'खुद को भीड़ में अकेला पाना' एक अमौलिक विचार है ? आज कल की तेज़ रफ़्तार ज़िन्दगी में हर दूसरा इंसान ज़िन्दगी के किसी न किसी मोड़ पर खुद को अकेला ही पाता है | उसी की चर्चा इन पंक्तियों में है |

      Delete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (31-01-2018) को "रचना ऐसा गीत" (चर्चा अंक-2865) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत शुक्रिया इस कविता को पोस्ट में शामिल करने के लिए | आभार |

      Delete
  4. Replies
    1. बहुत बहुत शुकि्या ।

      Delete
  5. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर 'सोमवार' ०५ फरवरी २०१८ को साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक में लिंक की गई है। आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहेदिल से शुकि्या सर मेरी रचना को स्थान देने पर।

      Delete
  6. बहुत खूब
    उम्दा रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुकि्या लोकेश जी ।

      Delete
  7. वाह
    बहुत सुन्दर सृजन
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहेदिल से आभार आपका मेरी ब्लॉग पर आने का और मेरी रचना को सरहने का।

      Delete

  8. आपकी लिखी रचना आज "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 7फरवरी 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!



    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका पम्मी जी मेरी रचना को स्थान देने पर ।

      Delete
  9. वाह !!!बहुत खूब

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुकि्या नीतू जी

      Delete
  10. सत्य आज का मनुष्य भीड़ में भी अकेला है

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका ।

      Delete
  11. पहले इंसान
    अजनबी सी भीड़ में
    शामिल होता है
    भीड़ में खोकर अपना सब कुछ
    वापस भीड़ से अलग
    अजनबी बन जाता है
    हर एक शख़्स एक दुसरे से है
    अजनबी अजनबी . . .
    बहुत ही सुंदर प्रसूति, मधुलिका जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुकि्या ज्योति जी

      Delete
  12. बहुत सुन्दर ,सार्थक रचना...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका ।

      Delete
  13. वाह ! क्या बात है ! खूबसूरत प्रस्तुति ! बहुत खूब आदरणीय ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहेदिल से शुकि्या सर मेरी ब्लॉग पर आने का ।

      Delete
  14. निमंत्रण :

    विशेष : आज 'सोमवार' १९ फरवरी २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच ऐसे ही एक व्यक्तित्व से आपका परिचय करवाने जा रहा है जो एक साहित्यिक पत्रिका 'साहित्य सुधा' के संपादक व स्वयं भी एक सशक्त लेखक के रूप में कई कीर्तिमान स्थापित कर चुके हैं। वर्तमान में अपनी पत्रिका 'साहित्य सुधा' के माध्यम से नवोदित लेखकों को एक उचित मंच प्रदान करने हेतु प्रतिबद्ध हैं। अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुकि्या सर ।

      Delete
  15. मन की इस अवस्था से बाहर ख़ुद आता बाई इंसान ...
    ऐसे अवसाद के पल अनेकों पार जीवन में आते हैं ... कुछ ऐसे पलों की गहरी दास्ताँ है ये रचना ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहे दिल से शुकि्या नेस्वा जी ।

      Delete
  16. निमंत्रण

    विशेष : 'सोमवार' १९ मार्च २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने सोमवारीय साप्ताहिक अंक में आदरणीया 'पुष्पा' मेहरा और आदरणीया 'विभारानी' श्रीवास्तव जी से आपका परिचय करवाने जा रहा है।

    अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया ध्रुव सिंह जी

      Delete
  17. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  18. भीड़ में खोकर अपना सब कुछ
    वापस भीड़ से अलग
    अजनबी बन जाता है
    हर एक शख़्स एक दुसरे से है
    अजनबी अजनबी . . .
    बहुत ही सुंदर प्रस्तुति मधुलिका जी।

    ReplyDelete
  19. बहुत बहुत शुक्रिया संजयजी

    ReplyDelete